Wednesday, 25 June 2014

मेंढकी का ज़ुकाम

मेंढकी को जब लगा ज़ुकाम
         खूब घबराया मेंढक राम          
               
               भागा भगा मेंढक आया                
आकर मेंढकी का सिर सहलाया

मेंढकी ग़ुस्से से चिल्लाई
सिर तुम मेरा छोड़ो भाई

दौड़े दौड़े जल्दी जाओ
कोई वैध हकीम लेकर आओ

मेंढक झटपट दौड़ा भागा
देखा न कोई पीछा आगा
                            
इसको पूछा उसको पूछा 
                           जिसको देखा उसको ही पूछा                            

और फिर लाया वैध इक ऐसा
जिसकी लम्बी पूँछ और छोटे कान

वैध देख मेंढकी चिल्लाई
वैध की सूरत उसे न भायी

मेंढकी ने किया होहल्ला
वैध भागा उठा पुच्छला
       © आई बी अरोड़ा

2 comments: