Tuesday, 17 March 2015





बादल
एक झूमता बादल का टुकडा
पर आज था कुछ उखड़ा-उखड़ा
साथ न था कोई मन का मीत

अपनों ने क्यों संग था छोड़ा

4 comments: