Friday, 24 June 2016

पानी का डर

नन्हें हाथी को लगता था
पानी से थोड़ा डर
फिर भी हर दिन नदी में
उसको जाना पड़ता था पर
माँ थी उसकी ज़रा कठोर
गुस्सा आता उसको नन्हें हाथी पर
अगर नहाने में वो नन्हा हाथी
करता कभी किन्तु अगर मगर पर
नन्हें हाथी ने इक दिन देखी
नदी में जाती इक नाव
नाव देख उसके मुंह से निकला  
‘वाओ वाओ वाओ
ऐसी निराली चीज़ तो मैंने  
न देखी थी कहीं आज तक
मुझे भी चाहिये ऐसी नाव
लेकर रहूँगा मैं अपना हक़’
झटपट आकर माँ से बोला
कही उससे मन की बात
फ़रमाईश सुन माँ झुंझलाई
और सर अपने पर मारा हाथ
तभी नदी में बहती देखी माँ ने
कागज़ की इक सुंदर नाव
माँ बोली, ‘जाओ नदी में जल्दी से  
और पकड़ लो वह बहती नाव’
नन्हा हाथी दौड़ा झटपट
और भूल गया पानी का डर
बड़ी फुर्ती से लगा तैरने
नाव वो पकड़ न पाया पर
लौट कर वो माँ से बोला,
‘नाव तो खो गई पानी में’
‘तुम ऐसे तैर पाओगे बेटा  
सोचा न था मैंने कभी सपने में
तुम्हें आज तो पानी से
लगा न बिलकुल भी डर
मैं तो सदा ही कहती थी
कि तुम हो सबसे अधिक निडर’  
नन्हा हाथी उछल पड़ा
सुन माँ से अपनी प्रशंसा
खूब अकड़ कर वह बोला
‘माँ, मैं तो हूँ ही ऐसा.’

©आइ बी अरोड़ा 

No comments:

Post a Comment